कांटे किसी के हक में........................



कांटे किसी के हक में किसी को गुलो-समर,
क्या खूब एहतमाम-ए-गुलिस्ताँ है आजकल।

 

Next Post Previous Post
No Comment
Add Comment
comment url